शर्म करो डॉक्टर साहब! कहां से हो आप भगवान ?

झांसी। उत्तर प्रदेश से एक दिल दहला देने वाली खबर सामने आई है। ऐसी खबर जिसे पढ़ आपको डॉक्टरों से विश्वास उठ जाएगा। खासतौर पर उस बात से जिसमें कहा जाता है कि डाक्टरों को भगवान का दूसरा अवतार माना जाता है। झांसी से जो घटना सामने आई है उसके हिसाब से आप कभी भी किसी डॉक्टर को भगवान तो क्या इंसान तक नहीं कहेंगे।

उत्तर प्रदेश के झांसी में डाक्टरों ने ऐसा कारनामा किया की लोगों की रुह कांप जाए। झांसी के रानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कालेज में डाक्टरों ने एक मरीज का कटा पैर उसके सिरहाने पर तकिये के तौर पर रख दिया। जी हां, आपने सही पढ़ा।

बताया जा रहा है कि झांसी के इटायल गांव का रहने वाला घनश्याम राजपूत स्कूल बस में क्लीनर है। वह स्कूल बस में बच्चों को छोड़ने स्कूल जा रहा था कि थोड़ी दूर जाकर बस पलट गई और घनश्याम के दोनों पैर बस के नीचे कुचल गए। जिसके बाद क्लीनर को झांसी मेडिकल कालेज भेजा गया। जहां इस क्लीनर के साथ डॉक्टरों ने ये कारनामा कर दिया।

अब आप खुद सोचिए कैसे अब डॉक्टरों को भगवान का दूसरा रूप कह सकते है। इस घटना की फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो चुकी है। मामले पर हंगामा मचता देख प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन ने कुछ डाक्टरों को निलंबित किया है।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here