दिल्ली में ब्रेस्ट कैंसर रोगियों की संख्या देश में सबसे ज्यादा

नई दिल्ली: राष्ट्रीय कैंसर रोकथाम एवं अनुसंधान संस्थान (एनआइसीपीआर) की सहयोगी संस्था नेशनल कैंसर रजिस्ट्री प्रोग्राम (एनसीआरपी) की ताजा रिपोर्ट-2017 को देखें तो महानगरों की महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। राजधानी दिल्ली ब्रेस्ट कैंसर ट्रेंड्स के मामले में नंबर एक पर पहुंच गई है। एक अन्य रिपोर्ट का आकलन करें तो अमेरिका की तुलना में भारत का ब्रेस्ट कैंसर सर्वाइवल रेट आधे से कम है। आंकड़ों पर एनआइसीपीआर ने गहरी चिंता व्यक्त की है। एनसीआरपी के मुताबिक, राजधानी में ब्रेस्ट कैंसर का ट्रेंड्स 2009-11 में 32.2 के मुकाबले वर्ष 2012-14 में 41 पर पहुंच गया है। 25 से 40 साल की युवतियों और महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर के मामले दो से चार गुना तक बढ़े हैं। देश में ब्रेस्ट कैंसर से पीडि़त दो महिलाओं में से कम से कम एक महिला की मौत हो जाती है।

रिपोर्ट के मुताबिक, ब्रेस्ट कैंसर ट्रेंड्स के मामले में चेन्नई दूसरे, बेंगलूरू तीसरे, मुंबई चौथे और भोपाल पांचवे नंबर पर है। यह कैंसर ट्रेंड्स प्रति लाख महिलाओं पर आधारित है। महानगरों में ब्रेस्ट कैंसर का मुख्य कारण बिगड़ा खान-पान, देर से शादी, देर से गर्भ धारण करना, कम स्तन पान, मोटापा, शराब और धूम्रपान एवं तंबाकू का अधिक सेवन है।
विकसित देशों की तुलना में निम्न-मध्य वर्ग के देशों में ब्रेस्ट कैंसर सर्वाइल दर 80 फीसद के मुकाबले 40 फीसद से भी कम है। भारत में भी उत्तर अमेरिका के मुकाबले कैंसर सर्वाइवल दर आधे से कम है। रिपोर्ट के अनुसार जागरूकता की कमी, अर्ली डिटेक्शन न हो पाना, देर से स्क्रीनिंग के लिए जाना, नियमित जांच न कराना सर्वाइवल रेट कम होने की खास वजहें हैं।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here