फार्मासिस्टों ने हेल्थ डिपार्टमेंट में शिफ्ट करने का जताया विरोध

पटियाला । जिला परिषद के तहत पंजाब की 1186 डिस्पेंसरियों में पिछले 13 सालों से काम कर रहे फार्मासिस्टों ने उनको हेल्थ डिपार्टमेंट में शिफ्ट करने के फैसले पर तीखा विरोध जताया है। फार्मासिस्टों का कहना है कि उनको पंजाब सरकार की ओर से बिना रेगुलर किए शिफ्ट करने की योजना है, जो उनको मंजूर नहीं है। रूरल हेल्थ फार्मासिस्ट एसोसिएशन पंजाब के सूबा प्रधान ज्योति राम मदनीपुर ने सरकार के फैसले का विरोध करते हुए कहा कि एसोसिएशन का प्रतिनिधिमंडल पंचायत मंत्री तृप्त राङ्क्षजदर ङ्क्षसह बाजवा के साथ कुछ समय पहले हुई मीङ्क्षटग में फार्मासिस्टों को रेगुलर किए जाने की सहमति हुई थी। इसके तहत उन्होंने कैबिनेट में रेगुलर किए जाने का वादा भी किया था, परन्तु अब अपने वादे से मुकरते हुए फार्मासिस्टों को कोई सर्विस लाभ नहीं दिए। उन्हें सेहत विभाग में शिफ्ट किए जाने का विचार किया जा रहा है, जो सरासर गलत है । उन्होंने कहा कि फार्मासिस्ट पहले ही 13 साल से कम तनख्वाह पर काम कर रहे हैं। फार्मासिस्टों को उनका हक देकर ही शिफ्ट किया जाए। उन्होंने मांग की है कि शिफ्टिंग से पहले फार्मासिस्टों को कैबिनेट में पक्का करने के वादे के मुताबिक रेगुलर नहीं किया गया तो राज्यभर के फार्मासिस्ट संघर्ष करने के लिए मजबूर होंगे, जिसकी जिम्मेदारी पंचायत विभाग की होगी ।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here