प्रदूषण दे रहा कैंसर, बढ़ा मौतों का ग्राफ

नई दिल्ली। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने अपनी रिपोर्ट में आगाह किया है कि प्रदूषण सांस की बीमारियों के अलावा हृदय व फेफड़े के कैंसर का कारण बन रहा है। इससे होने वाली मौतों का ग्राफ भी बढ़ा है। दिल्ली में मृत्यु पंजीकरण रिपोर्ट के आंकड़ों से यह बात सामने आई है कि राजधानी में पिछले 12 सालों में दिल की बीमारियों से मौत के मामले दोगुने बढ़े हैं। वहीं, कैंसर से होने वाली मौतों में करीब तीन गुना वृद्धि देखी जा रही है। विशेषज्ञ इन बीमारियों के बढऩे का एक बड़ा कारण प्रदूषण को मान रहे हैं। रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली में हृदय की बीमारी मौत का सबसे बड़ा कारण है। वर्ष 2016 में हार्ट अटैक व हृदय की बीमारियों से 16,665 लोगों की मौत हुई। इसमें 15,919 लोगों की मौत अस्पतालों में हुई थी। पहले दिल्ली में कैंसर से हर साल करीब दो हजार लोगों की मौत होती थी, मगर अब यह आंकड़ा बढक़र 6000 के आसपास पहुंच गया है। वर्ष 2011 में यहां कैंसर से 9925 मरीजों की मौत हुई थी।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here